Roar for Tigers

यूपी और उत्तराखंड सरकार बाघिन को पकड़ने के लिए तैयार करेंगे रणनीति

यूपी और उत्तराखंड सरकार बाघिन को पकड़ने के लिए तैयार करेंगे रणनीति

Feb 11, 2014

बिजनौर में घूम रही आदमखोर बाघिन हर दो दिन बाद लोगों को अपना निवाला बना रही है। मामले की गंभीरता को देख अब प्रदेश सरकार ने उत्तराखंड सरकार से बात करने का मन बना लिया है। जल्द ही दोनों सरकार वन विभाग की मदद से बाघिन को पकड़ने की रणनीति तैयार करेंगे। बाघिन ने अपना दसवां शिकार उत्तराखंड में बनाया। इससे पहले उसने अपना शिकार ठीक दो दिन पहले बिजनौर में बनाया। मुरादाबाद के वन संरक्षक कमलेश कुमार की मानें तो बाघिन हर दो दिन में अब शिकार ढूंढ रही है। आमतौर पर एक शिकार के बाद कम से कम तीन से चार दिन का गैप होता है। मगर यह अजीब था कि उसने 6 फरवरी को एक शिकार किया तो अगला 9 फरवरी को। कमलेश कुमार ने बताया कि हम अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहे हैं। मगर मामला जब सीमा पार का होता है तो हम कुछ नहीं कर पाते। इसे देखते हुए प्रदेश सरकार जल्द ही उत्तराखंड सरकार की मदद लेगी। वन विभाग लोगों को कर रहा है जागरुक : मुरादाबाद के वन संरक्षक कमलेश कुमार ने बताया कि वन विभाग की टीम लाउड स्पीकर, बैनर, पम्फलेट, फ्लैक्स के माध्यम से लोगों को बाघिन के आतंक की जानकारी दे रहे हैं। लोगों को रात में जंगल की ओर जाने से मना कर रह हैं। यह भी बताया जा रहा है कि लोग जंगल में लकड़ी बीनने जा रहे हैं तो समूह बनाकर जाएं। रात को घर के बाहर न निकले साथ ही घर के बाहर आग जलाए रखें। मंदिर और मस्जिद में लगे लाउडस्पीकर से भी लोगों को जंगल की तरफ जाने से रोका जा रहा है। हमने शासन को मामले की गंभीरता बताई है। जल्द ही उत्तराखंड सरकार से बाघिन मामले में मदद लेने के लिए वहां के वन विभाग की मदद ली जाएगी।  रूपक डे, प्रमुख वन संरक्षक के मुताबिक जल्द ही उत्तराखंड सरकार से  बात की जाएगी और बाघिन को पकड़ने के लिए रणनीति तैयार की जाएगी।

As posted in navbharattimes.indiatimes.com

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *