Roar for Tigers

ताकि पीलीभीत टाइगर रिजर्व में न हों बाघों का शिकार

ताकि पीलीभीत टाइगर रिजर्व में न हों बाघों का शिकार

Jul 29, 2014

पीलीभीत : पीलीभीत टाइगर रिजर्व घोषित होने के बाद वन विभाग बाघों की सुरक्षा को लेकर चिंतित है। सबसे ज्यादा खतरा कुख्यात बावरिया गिरोह से है। विभाग ने इसके लिए पुलिस से भी मदद मांगी है। गिरोह के एक दर्जन लोगों के नाम भी पुलिस को सौंपे गए हैं, जिन पर वन विभाग की टीम के साथ-साथ पुलिस भी निगरानी रखेगी। तराई के इस जिले में 71288 हेक्टेयर क्षेत्रफल प्राकृतिक जंगलों से आच्छादित है। जंगल की सुरक्षा को लेकर इसे माला, महोफ, हरीपुर, बराही एवं दियोरिया रेंज में विभाजित किया गया है। देश-दुनिया में दुर्लभ हो रहे बाघों की बहुतायत संख्या के कारण इसे अभी हाल ही में पीलीभीत टाइगर रिजर्व बनाया गया है। यूपी में यह दूसरा टाइगर रिजर्व है।

खास बात यह है कि यहां की सभी रेंजों में बाघ पाए जाते हैं। बावरिया गिरोह बाघों के शिकार के मामले में काफी समय से कुख्यात रहा है। करीब पांच माह पूर्व यहां के बराही रेंज में एक बाघ का शिकार हुआ था। इसके बाद उत्तराखंड पुलिस ने एक गिरोह को पकड़ा, जो वन्य जीवों के शिकार और उनकी तस्करी के लिए जाना जाता था। पकड़े गए लोगों से जब पूछताछ की गई तब खुलासा हुआ कि इन लोगों ने जंगल में कुड़का लगाकर बाघ का शिकार किया था। आरोपियों की पहचान बावरिया गिरोह के रूप में हुई। अब चूंकि टाइगर रिजर्व भी बन गया है। ऐसे में वन अफसर कोई रिस्क नहीं लेना चाहते। बाघ या अन्य जीवों का शिकार न हो इसके लिए वन्य अफसरों ने बावरिया गिरोह के सदस्यों को चिह्नित करते हुए यूपी पुलिस को भी उनका हुलिया और नाम-पता देकर सहयोग मांगा है। पुलिस अफसरों ने भी जंगल से सटे थानों और चौकियों को एलर्ट कर दिया है। एएसपी उदयशंकर सिंह का कहना है कि पुलिस वन्य जीवों के शिकार और तस्करी को लेकर पहले से ही सजग रहा है। अब चूंकि वन विभाग ने भी सहयोग मांगा है, ऐसे में दोनों विभाग संयुक्त रूप से कार्रवाई करेंगे।

 

As posted in Jagran.com

468 ad

3 comments

  1. Interesting information!!!!

  2. DFO rajeev mishra is thief nd involved in tree fallind these officer should be terminated from service

  3. Firasat Khan Shariq /

    Really Interesting and Good sine for tiger conservation but littel bit late Becouse we Have lost so many Tigers In Pilibhit Forest Area

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *