Roar for Tigers

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व में एक और बाघ की मौत

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व में एक और बाघ की मौत

Apr 23, 2015

माधोटांडा (पीलीभीत): टाइगर रिजर्व का एक और नर बाघ असमय ही काल के गाल में समा गया। बाघ का शव सुबह वनकर्मियों ने हरदोई ब्रांच नहर से बरामद किया है। बाघ झाल में फंसा हुआ था। बाघ का शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। विभाग के अधिकारी बाघ की मौत प्रथम दृष्टया डूबकर होना बता रहे हैं। गुरुवार की सुबह करीब पांच बजे ग्राम डगा के एक युवक ने हरदोई ब्रांच नहर की झाल में फंसा बाघ का शव देखा। डर के कारण वह युवक गांव भाग आया और सूचना अन्य लोगों को दी। कुछ देर बाद गांव के तमाम लोग मौके पर पहुंचे हैं। उधर बाघ की मौत होने की जानकारी जब वन विभाग के अधिकारियों को हुई तो उनके होश उड़ गए। टाइगर रिजर्व के डीएफओ कैलाश प्रकाश, एसडीओ डीपी ¨सह, सामाजिक वानिकी के डीएफओ आदर्श कुमार और बराही के रेंजर नहर के पास पहुंच गए। आनन फानन में बाध के शव बाहर को निकाला गया। बाघ के पीछे के एक पैर के दांए पंजे में जख्म था और गर्दन पर कटे का निशान था। शव के अन्य अंग सुरक्षित थे।

शव की नाप जोख करने के बाद वनकर्मी उसे मुस्तफाबाद गेस्ट हाउस लेकर चले गए और फिर दोपहर 12: 40 डीएफओ कार्यालय लाया गया। डीएम ओएन सिंह भी मौके पर पहुंचे। वेटनरी टीम ने शव का परीक्षण किया। बाद में शव बरेली स्थित आइवीआरआइ भेजा गया।पीलीभीत टाइगर रिज़र्व के डीएफओ कैलाश प्रकाश का कहना है कि बाघ के सभी अंग सुरक्षित हैं और कहीं चोट के निशान नहीं हैं। प्रथम दृष्टया डूबने से मौत होना लग रहा है। मौत का सही कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट होगा। शव वयस्क बाघ का है उसकी लंबाई 2.80 मीटर और ऊंचाई 1.10 मीटर है। बाघ की उम्र चार से पांच साल के बीच होगी।

 

 

As posted in Jagran.com

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *