Roar for Tigers

बूढ़ी टांगों पर पीलीभीत टाइगर रिज़र्व के जंगल की रखवाली की जिम्मेदारी

बूढ़ी टांगों पर पीलीभीत टाइगर रिज़र्व के जंगल की रखवाली की जिम्मेदारी

May 8, 2015

पीलीभीत : आज लुप्तप्राय बाघ समेत कई वन्यजीवों की सुरक्षा पर दुनिया भर में चिंतन मनन हो रहा है। मगर पीलीभीत टाइगर रिजर्व में रहने वाले बाघ की सुरक्षा की दिशा में कोई खास कदम नहीं उठाए जा रहे हैं। यहां पर वन्यजीवों की सुरक्षा में लगे वन कर्मचारियों की उम्र पचास के पार कर चुकी है। ऐसे में वन और वन्यजीवों की सुरक्षा का जिम्मा बूढ़ी टांगों पर हैं, जो वन्यजीवों की सुरक्षा करने में कारगर साबित नहीं हो रहे हैं। नौ जून 2014 को राज्य सरकार ने पीलीभीत के जंगल को टाइगर रिजर्व घोषित किया गया था। इसके बाद नेशनल टाइगर कंजरवेशन अथारिटी नई दिल्ली की दो सदस्यीय टीम ने निरीक्षण किया था। इसके बाद संसाधनों की डिमांड की गई। जनवरी माह में गभिया सहराई निवासी शिकारी दुलाल मंडल की निशानदेही पर बाघ हत्या मामले में दस से अधिक शिकारियों को जेल भेजा जा चुका है। कई शिकारी अभी भी इधर-उधर घूम रहे हैं। टाइगर रिजर्व में विचरण करने वाले वन्यजीव व जंगल की सुरक्षा में लगे वन अफसर और कर्मचारियों की उम्र ढल रही है। टाइगर रिजर्व के सभी वन रेंजरों की उम्र पचास के पार हो चुकी है। वर्तमान समय में 50 से 55 साल के बीच आयु के रेंजर तैनात हैं। ऐसे में वन और वन्यजीव सुरक्षा बेहतर ढंग से हो पाना संभव नहीं लगता है। ऐसे में बूढ़ी टांगों पर वन्यजीवों की सुरक्षा का दारोमदार है। इस उम्र के पड़ाव में व्यक्ति को चलने फिरने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। मगर उन्हें टाइगर जैसी महत्वपूर्ण सुरक्षा की डयूटी दी गई है। यही कुछ हाल फील्ड स्टाफ का भी है। इन कर्मचारियों की उम्र भी काफी अधिक है। इधर, टाइगर रिजर्व के डीएफओ कैलाश प्रकाश के मुताबिक, सभी रेंजों में गश्त बढ़ा दी गइ्र है। वन और वन्यजीव की सुरक्षा कड़ाई से की जा रही है।

-File Photo

 

कई बीटों में नहीं हैं कर्मचारी

पीलीभीत टाइगर रिजर्व में कुल 52 बीटें हैं। प्रत्येक बीट का एक इंचार्ज बनाया जाता है, जिसकी जिम्मेदारी तय की जाती है। वर्तमान समय में फील्ड स्टाफ की किल्लत की वजह से 21 बीटें कर्मचारी विहीन हैं। इन बीटों का चार्ज दूसरे कर्मचारियों पर हैं। अगर स्टाफ की पूर्ति हो जाती है, तो बाघ की बेहतर ढंग से सुरक्षा हो सकेगी।

टाइगर रिजर्व में ये रिक्त हैं पद

सहायक वन संरक्षक : दो पद

क्षेत्रीय वनाधिकारी : एक पद

वन दरोगा : 27 पद

वन रक्षक : 21 पद

 

 

 

As posted in Jagran.com

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *