Roar for Tigers

पीलीभीत के जंगल से कटान कर नेपाल ले जाई जा रही शीशम पकड़ी

पीलीभीत के जंगल से कटान कर नेपाल ले जाई जा रही शीशम पकड़ी

Jun 29, 2015

पीलीभीत। भारी सुरक्षा व्यवस्था के बावजूद एक बार फिर लकड़ी तस्कर जंगल में सक्रिय हुए। नेपाल सीमा से सटे टाटरगंज जंगल से बेषकीमती शीषम की लकड़ी का कटान किया गया। जिसके बाद उसको बैलगाड़ी से लादकर नेपाल ले जाने की कोषिष की गई। जंगल में हुए कटान की सूचना मिलने पर वनविभाग की टीम ने कार्रवाई करते हुए लकड़ी पकड़ी। हालांकि तस्कर अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में सफल रहे। टाइगर रिजर्व बनने के बाद बढ़ाई गई सुरक्षा व्यवस्था के रहते इस तरह की वारदात घटित होने से कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े हुए है।

-File Photo

– बार्डर से सटे टाटरगंज स्थित से किया गया था कटान

– पुलिस ने सूचना पर की बरामद, तस्कर भागने में रहे सफल

– भारी सुरक्षा व्यवस्था के बावजूद हुए कटान से उठे सवाल
पीलीभीत का जंगल टाइगर रिजर्व घोषित हो चुका है। नेपाल बार्डर के सीमावर्ती टाटरगंज का जंगल है। इसकी सुरक्षा के लिए टाटरगंज, बमनपुर भगीरथ के टिल्ला नंबर चार में वनचौकी, हजारा पुलिस की कंबोजनगर चौकी और एसएसबी की 26पीं बटालियन तैनात है। इसके बावजूद जंगल से लकड़ी का कटान थम नहीं पा रहा है। एक बार फिर जंगल की हरियाली नष्ट करने का काम तस्करों द्वारा किया गया। हजारा क्षेत्र स्थित टाटरगंज के जंगल में तस्करों द्वारा बेषकीमती शीषम की लकड़ी का कटान हुआ। शीषम के चार बोटे बैलगाड़ी में लादकर तस्कर नेपाल की ओर ले जाने लगे। इस बीच मुखबिर ने घटना की सूचना वनविभाग के अफसरों को दी। जिस पर तत्काल कार्रवाई करते हुए वनविभाग की टीम ने जंगल से निकलने वाले रास्ते पर एसएसबी की मदद से दबिष दी। जिसमें पुलिस ने तस्करी को नेपाल ले जाई जा रही शीषम को बरामद कर लिया। लेकिन अंधेरे का फायदा उठाकर तस्कर एक बार फिर चकमा देकर भाग निकले। कटान की गई लकड़ी की बरामदगी कर वनचौकी ले जाया गया। जहंा फरार तस्करों के खिलाफ लिखित कार्रवाई कर उनकी तलाष शुरू कर दी गई है। पहले कटान और बाद में तस्करों को यूं आसानी से भाग जाना, जंगल की सुरक्षा कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े कर गया है। हालांकि विभागीय अधिकारी पूरी तरह से मुस्तैदी बरतने का दावा कर रहे है।

 

 

 

-मुख्य संवाददाता वैभव शुक्ला की रिपोर्ट

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *