Roar for Tigers

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व के जंगल में प्रवेश रोकें और लें तलाशी

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व के जंगल में प्रवेश रोकें और लें तलाशी

May 13, 2015

माधोटांडा (पीलीभीत): मुख्य वन संरक्षक एमपी सिंह ने कहा कि जंगल में कोई भी अधिकारी या कर्मचारी गश्त नहीं करता इसीलिए घटनाएं बढ़ रही हैं। उन्होंने कहा कि टोली बनाकर पैदल या साइकिल से गश्त की जानी चाहिए। बाघों की निगरानी करने और मुखबिर तंत्र को मजबूत करने के निर्देश भी उन्होंने दिए। साफ कहा कि जंगल में घुसने वाले हर खासोआम की तलाशी ली जानी चाहिए। बरेली मंडल के मुख्य वन संरक्षक मंगलवार को बराही गेस्ट हाउस में टाइगर रिजर्व के अधिकारियों व कर्मचारियों की क्लास ले रहे थे। उन्होंने कहा कि बाघों की सही ढंग से मानिटरिंग की जाए।  मुखबिर तंत्र को मजबूत करने और वन अपराधियों को आरोपपत्र दाखिल कर जेल भेजने के निर्देश दिए।12_05_2015-12pnpr9-c-2उन्होंने कहा कि अब टोली बनाकर पैदल या साइकिल ने गश्त की जाए। इंट्री बोर्डों पर लोगों की तलाशी लेकर यह सुनिश्चित किया जाए कि उनके पास असलहा या माचिस जैसी कोई चीज तो नहीं है। बाघ द्वारा किसी जीव को मारने पर उसे तुरन्त दफन करने को कहा ताकि शिकारी आदि जहर का प्रयोग न कर सकें। किसानों का सहयोग मांगने की बात कहते हुए उन्होंने कहा कि किसानों को समझाना चाहिए कि खेत में कीटनाशक का प्रयोग कम मात्रा में करें। कई अधिकारियों ने वीआईपी के आने पर वन्यजीवों के विचरण में खलल पड़ने का मसला भी उठाया। यहां टाइगर रिजर्व के डीएफओ कैलाश प्रकाश, सामाजिक वानिकी के आदर्श कुमार, शाहजहांपुर के डीएफओ एनके सिंह एवं बिजनौर के डीएफओ विजय सिंह एवं जिले की सभी रेंजों के वनक्षेत्राधिकारी, वनदारोगा एवं वनरक्षक मौजूद रहे।

तार फैंसिंग कराने को सौंपा ज्ञापन

माधोटांडा : क्षेत्रीय लोगों ने प्रदेश के वन राज्यमंत्री फरीद महफूज किदवई को ज्ञापन सौंपकर जंगल की तार फैंसिंग कराने की मांग की। ज्ञापन में कहा गया कि टाइगर रिजर्व बनाने के दौरान इसका आश्वासन दिया गया था। कहा गया कि जंगल से निकलकर जानवर नुकसान पहुंचाते हैं। जब किसानों के मवेशी जंगल में चले जाते हैं तो उनसे एक-एक हजार रुपए की वसूली की जाती है। राज्यमंत्री ने कार्रवाई का आश्वासन दिया। ज्ञापन देने वालों में रामकुमार, साहब सिंह, करमजीत सिंह, जोगेन्द्र सिंह, सूबा सिंह आदि थे।

 

 

 

As posted in Jagran.com

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *