Roar for Tigers

पीलीभीत में शारदा नदी से धड़ल्ले से हो रहा है खनन

पीलीभीत में शारदा नदी से धड़ल्ले से हो रहा है खनन

May 2, 2014

पीलीभीत: शारदा नदी एवं नहरों से हर रोज बड़ी तादात में रेत खनन किया जा रहा है। इस पर अफसर ध्यान नहीं दे रहे हैं। बिना रायल्टी चुकाए ही लाखों के बारे न्यारे किए जा रहे हैं। शारदा नदी के रेत को कभी बेकार समझा जाता था पर आज यह सोने के भाव बिक रहा है। यहां की शारदा नदी के अलावा हरदोई, खीरी ब्रांच एवं खारजा नहरों से रेत निकालकर उसे ट्रेक्टर ट्रालियों से जनपद ही नहीं खीरी व शाहजहांपुर तक जाता है। एक ट्राली रेत बाहर ले जाकर चार से पंाच हजार तक में आसानी से बिक जाता है। इस धंधे में सैकड़ों लोग लगे हुए हैं। एक ट्रेक्टर में दो-दो ट्रालियां जोड़कर रेत भरा जाता है। माधोटांडा में नहर किनारे के खेतों में नहर से डनलप से निकालकर रेत एकत्र करते हैं तो कलीनगर में कई आढ़ते खुल गई हैं। कुर्रैया, जोगराजपुर तरफ महराजपुर व कांपटांडा से रेत लाई जा रही है। नियमानुसार तो रायल्टी जमा करके रेत भरने का नियम है लेकिन सरकार को राजस्व का चूना लगाया जाता है। पुलिस प्रशासन से मिलकर यूं ही धंधा चलाया जा रहा है।

ओवरलोड से उल्ल नदी की पुलिया टूटी

पूरनपुर : रेत भरे वाहनों से अक्सर दुर्घटनाएं होतीं हैं। मंगलवार को ऐसे ही वाहन से कुचलकर ढका की महिला की मौत हो गई। दो-दो ट्रालियां लेकर निकलने वाले इन ओवरलोड वाहनों से अधिकांश मार्ग, पुल एवं पुलिया खराब हो रहीं हैं। खीरी ब्रांच नहर का हरीपुर पुल का हिस्सा गत दिनों धंस गया था। लोगों ने श्रमदान कर मिट्टी डलवाई। अब उल्ल नदी के उद्गम स्थल पर महराजनगर मार्ग पर बनी पुलिया भी धंस गई है। रात भर ऐसे वाहन चलने से लोगों की नींद भी खराब होती है।

– पूरनपुर के एसडीएम डा. वैभव शर्मा के मुताबिक रेता खनन की रायल्टी जिला मुख्यालय पर जमा होती है। खनिज विभाग ही इसे देखता है। अगर शारदा नदी से अवैध खनन हो रहा है तो शिकंजा कसा जाएगा।

 

As posted in Jagran.com

 

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *