Roar for Tigers

पीलीभीत के जंगलों के लकड़ी तस्करों की ज़मानत अर्ज़ी खारिज

पीलीभीत के जंगलों के लकड़ी तस्करों की ज़मानत अर्ज़ी खारिज

Sep 22, 2014

पीलीभीत : जंगल में घुसकर सागौन के वृक्ष काटकर लकड़ी की तस्करी के मामले में पकड़े गए तीनों आरोपियों की जमानत अर्जी जिला न्यायालय से भी खारिज हो गई है। अब आरोपियों को जमानत के लिए हाईकोर्ट में अर्जी लगानी पड़ेगी। पिछड़े पखवाड़े पीलीभीत टाइगर रिजर्व में माला रेंज के जंगल से कुछ लोगों ने रात के अंधेरे में सागौन के चार वृक्ष काट डाले। काटे गए वृक्षों के बोटे तैयार कराकर एक वाहन में लादकर ले जाने का प्रयास किया गया। सुबह के वक्त लकड़ी तस्करों का यह वाहन अजीतपुर पटपरा गांव के पास फंस गया। कुछ ग्रामीणों ने इसकी सूचना वन विभाग के अफसरों को दे दी थी। इस पर विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर लकड़ी तस्करों की घेराबंदी करके तीन लोगो को पकड़ लिया था। छह अन्य आरोपी मौके से भाग गए थे। पकड़े गए तीनों आरोपियों मुहल्ला अशरफ खां निवासी नफीस, मुहल्ला पकड़िया निवासी रामचंद्र तथा लकड़ी मंडी के मुन्ना के खिलाफ केस काटने के बाद चालान कर न्यायालय में पेश किया गया था।

न्यायालय ने तीनों को जेल भेजा था। पिछले दिनों सीजेएम न्यायालय में जमानत अर्जी खारिज हो जाने के बाद आरोपियों की ओर से जनपद न्यायाधीश की अदालत में जमानत के लिए प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किया गया लेकिन वहां से भी उसे निरस्त कर दिया गया। अब आरोपियों को जमानत के लिए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाना पड़ेगा। उधर, डीएफओ कैलाश प्रकाश ने तीनों आरोपियों की जमानत अर्जी खारिज होने की पुष्टि करते हुए बताया कि जल्द ही फरार चल रहे सभी आरोपियों को भी गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया जाएगा।

 

 

As posted in Jagran.com

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *