Roar for Tigers

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व में जुर्माना देकर भी नहीं छूट सकेंगे लकड़ी माफिया

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व में जुर्माना देकर भी नहीं छूट सकेंगे लकड़ी माफिया

Sep 19, 2014

पीलीभीत : जंगल से अवैध रूप में लकड़ी काटकर लाने वालों के खिलाफ अब कार्रवाई का शिकंजा और कड़ा हो गया है। 25 हजार रुपये से अधिक कीमत की लकड़ी पुलिस या वन विभाग द्वारा पकड़ लिए जाने पर सीधे संबधित थाने में आरोपी के खिलाफ एफआइआर करवाई जाएगी। अभी तक वन विभाग के कर्मचारी जुर्माना लेकर छोड़ देते थे। बरेली मंडल के आयुक्त ने इस संबंध में मंडल के सभी जिलों के डीएम और एसपी को आदेश जारी कर दिए हैं। मंडल के अवैध कटान की शिकायतें अक्सर अफसरों को मिलती रहती है। कई बार लकड़ी माफिया अपने गुर्गो के माध्यम से छोटे-छोटे टुकड़ों में लकड़ियां जंगल से कटवाकर बाहर ले आते हैं। अव्वल तो उन्हें कोई पकड़ता ही नहीं है। अगर पकड़ भी लिया तो जुर्माना अदा कर छोड़ दिया जाता है। इससे लकड़ी माफियाओं का काम बादस्तूर जारी रहता है। बरेली मंडल के कमिश्नर को खुद इस तरह की काफी शिकायतें लगातार मिल रही थी। इस पर कमिश्नर विपिन द्विवेदी ने एक आदेश जारी कर दिया है।

आदेश के तहत अब यदि वन विभाग और पुलिस 25 हजार रुपये से अधिक की अवैध लकड़ी कटते हुए पकड़ लेते है। तो उनको जुर्माना अदा करके नहीं छोड़ा जाएगा। ऐसे लकड़ी माफियाओं के खिलाफ पुलिस सीधे एफआइआर दर्ज कराएगी। एफआइआर दर्ज होने के बाद पुलिस बाकायदा विवेचना करके जेल भेजेगी। अभी तक ऐसे मामलों में सांठगांठ करके कम जुर्माना डालकर छोड़ दिया जाता था। जिसका कोई असर लकड़ी माफियाओं पर नहीं पड़ता था। एसपी सोनिया सिंह के मुताबिक कमिश्नर के आदेश प्राप्त हो गए है। सभी सीओ और थाना प्रभारियों को आदेश से अवगत करा दिया गया है। आदेश का कड़ाई से पालन कराया जाएगा।

 

 

 

As posted in Jagran.com

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *