Roar for Tigers

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व में अब चैन से रह सकेंगे वन्यजीव

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व में अब चैन से रह सकेंगे वन्यजीव

Jun 17, 2015

पीलीभीत : पीलीभीत टाइगर रिजर्व का जंगल पर्यटकों के लिए बंद कर दिया गया है। अब जंगल का राजा बाघ चैन से रह सकेगा। इस दौरान जंगल में किसी बाहर की इंट्री नहीं हो सकेगी। पर्यटन सीजन में 11136 टूरिस्टों ने जंगल की सैर कर सुंदरता देखी। अब पर्यटकों के लिए 15 नवंबर को टाइगर टाइगर खुलेगा। 15 नवंबर 2014 को पीलीभीत टाइगर रिजर्व का जंगल पर्यटकों के लिए खोला गया। इस दौरान टूरिस्टों के साथ ही वीवीआईपी का काफिला आता रहा। पर्यटन सीजन में प्रदेश के वन राज्यमंत्री फरीद महफूज किदवई, वन एवं जीव जंतु मंत्री डा.शिव प्रताप यादव, कौशल विकास मंत्री डा. अभिषेक मिश्रा, बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री योगेश प्रताप ¨सह, शासन के प्रमुख सचिव आलोक रंजन समेत कई वीवीआईपी आ चुके हैं। इन वीवीआईपी के आने की वजह से जंगल का राजा बाघ का वास स्थल डिस्टर्ब हुआ। इस वजह से किसी भी वीवीआईपी को वनराज के दर्शन नहीं हो पाए। वीवीआईपी के साथ कई कई गाड़ियों के काफिले की वजह से बाघ समेत कई वन्यजीव काफी परेशान रहे। मामला उनके विभाग के मंत्री व अन्य मंत्रियों का था। इसलिए कुछ नहीं हुआ। पीलीभीत टाइगर रिजर्व का पर्यटन सीजन समाप्त हो गया है। अब बाघ समेत सभी वन्यजीव शांत माहौल में रह सकेंगे। जंगल में कोई भी आम आदमी दाखिल नहीं हो सकेगा।

अब टाइगर रिजर्व पंद्रह नवंबर को पर्यटकों के लिए खोला जाएगा। प्रभागीय वनाधिकारी कैलाश प्रकाश का कहना है कि पर्यटन सीजन में कुल 11136 टूरिस्ट घूमने के लिए आए, जिनसे 17 लाख रुपए की आमदनी हुई। टाइगर रिजर्व में दस मिनी बस, 1251 कार, 611 मोटरसाइकिलें गई। उन्होंने बताया कि नए सीजन में टाइगर रिजर्व में कोई भी प्राइवेट गाड़ी को जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। चूकाबीच तक जाने के लिए गाड़ियों की व्यवस्था की जाएगी।

मुख्यमंत्री के रिश्तेदार आए

पीलीभीत टाइगर रिजर्व की प्राकृतिक सुंदरता का दर्शन करने के लिए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के रिश्तेदार घूमने के लिए आए, जो जंगल में घूमकर वन्यजीवों के दर्शन किए। चूकाबीच व वाइफरकेशन के प्राकृतिक सुंदरता का नजारा देखा।

 

As posted in Jagran.com

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *