Roar for Tigers

कोई भी बुक करा सकेगा पीलीभीत टाइगर रिज़र्व के वीवीआइपी गेस्ट हाउस

कोई भी बुक करा सकेगा पीलीभीत टाइगर रिज़र्व के वीवीआइपी गेस्ट हाउस

Nov 18, 2014

पीलीभीत : जंगल के बीच बने वनविभाग के खूबसूरत अतिथि गृहों के कपाट अभी तक सिर्फ बड़े अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के लिए ही खुलते थे लेकिन अब आम आदमी भी इनकी बु¨कग करा सकेगा। टाइगर रिजर्व घोषित होने के बाद वनविभाग ने अपने पांच गेस्ट हाउस पर्यटकों के लिए खोल दिए हैं। वनविभाग के पास बराही रेंज में बराही गेस्ट हाउस, हरीपुर रेंज में नवदिया गेस्ट हाउस, महोफ रेंज के गेस्ट हाउस व माला रेंज में गढ़ा एवं माला गेस्ट हाउस हैं। इन सबमें दो-दो स्वीट हैं। तीन सूट का गेस्ट हाउस पूरनपुर खटीमा रोड पर चूका जाने वाले मार्ग पर जंगल से पहले मुस्तफाबाद में है। यह गेस्ट हाउस सबसे अच्छा बताया जाता है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आगमन को लेकर इस गेस्ट हाउस में एअरकंडीशनर, एलसीडी व जेनरेटर लगाए गए थे। बराही गेस्ट हाउस में भी एसी व एलसीडी और बड़े जेनरेटर लगाए गए हैं। अभी तक यह सब गेस्ट हाउस सिर्फ वीवीआईपी को ही उपलब्ध होते थे। पीलीभीत के वनों को टाइगर रिजर्व घोषित किए जाने के बाद से इन गेस्ट हाउसों को पर्यटकों के लिए उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया। पीलीभीत के डीएफओ कार्यालय के फोन नंबर 05882- 259688 पर कॉल करके यह गेस्ट हाउस बुक कराए जा सकते हैं। वन विभाग ने पर्यटकों को लुभाने के लिए इनका किराया भी कम तय किया है।

unnamed (6)

इतना है किराया

सबसे मंहगा मुस्तफाबाद गेस्ट हाउस है। इसके एक सूट का किराया भारतीयों के लिए 1 हजार और विदेशियों के लिए 2 हजार रुपये रखा गया है। बराही और माला के गेस्ट हाउस का रेट 900, नवदिया 800 और गढ़ा व महोफ के गेस्ट हाउस 750 रुपये में उपलब्ध होंगे। विदेशियों के लिए दोगुना चार्ज लिया जाएगा। इन दरों के अलावा 100 रुपये प्रतिदिन आरक्षण का शुल्क व रखरखाव शुल्क देना होगा। एससी व जेनरेटर चलाने पर 1000 रुपये प्रति प्रतिदिन का अतिरिक्त चार्ज लिया जाएगा।

अंग्रेजों के जमाने के हैं अधिकांश गेस्ट हाउस

माधोटांडा: बराही, नवदिया, महोफ और माला गेस्ट हाउस 1910 से 1930 के बीच अंग्रेजी हुकूमत में बनाए गए थे। अंग्रेज अधिकारी यहां आकर ठहरते थे। मुस्तफाबाद गेस्ट हाउस देश आजाद होने के बाद बनाया गया। गढ़ा गेस्ट हाउस सामाजिक वानिकी से टाइगर रिजर्व को मिला है। इसे सुंदर रूप से सजाकर पर्यटकों के लिए पेश करने की तैयारी में महकमा जुटा हुआ है।

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व के प्रभागीय वनाधिकारी कैलाश प्रकाश के मुताबिक टाइगर रिजर्व में आने वाले पर्यटकों के लिए विभाग के गेस्ट हाउस खोले गए हैं। शुल्क भी काफी कम रखा गया है। मंशा है कि अधिक से अधिक सुविधायें पर्यटकों को मुहैया करवाई जाएं ताकि अधिक पर्यटक इधर का रुख करें।

 

 

As posted in Jagran.com

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *