Roar for Tigers

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व के बफर जोन में कैमरे लगाने के लिए जगह की तलाश शुरू

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व के बफर जोन में कैमरे लगाने के लिए जगह की तलाश शुरू

Jul 16, 2015

पीलीभीत। पीलीभीत टाइगर रिजर्व के बफर जोन शाहजहांपुर खुटार रेंज के जंगल में बाघों की गणना करने के लिए विभागीय कार्रवाई तेज कर दी गई है। डीएफओ द्वारा लेजर कैमरे लगाकर गणना करने के निर्देष मिलने के बाद डबलयूडबलयूएफ की टीम ने काम शुरू कर दिया है। गणना की शुरूआत करने से पहले वर्तमान समय में खुटार रेंज के जंगल में कैमरा लगाने के लिए जगह को तलाशा जा रहा है। प्वाइंट चिन्हित होने के बाद कैमरों को लगाया जाएगा। पीलीभीत के जंगल को टाइगर रिजर्व का दर्जा मिले एक साल पूरा हो चुका है। इसमें बाघों की मौजूदगी की असल संख्या जानने के लिए हाल ही में गणना कराई गई थी। गणना साठ-साठ के दो चरणों में पूरी की गई। जिसके बाद चिप लोडिंग कर डाटा वन्यजीव संस्थान देहरादून एवं एनसीटीए भेजने की तैयारी है। जहां विशेषज्ञों द्वारा मिलान कर बाघों की असल संख्या की घोषणा की जाएगी। विभाग भी इस बार की गणना को लेकर बाघों की संख्या में बढ़ोत्तरी की संभावना जता रहा है।

 

camera

-File Photo

– प्वाइंट चिन्हित होने के बाद सामने आ सकेगी संख्या

– बफर जोन में बाघ गणना को लगाए जाने है लेजर कैमरे

इसके बाद पीलीभीत टाइगर रिजर्व प्रशासन ने शाहजहांपुर जिले की खुटार रेंज स्थित नवदिया बंकी एवं नजीरगंज जंगल में बाघ गणना करने की ठानी थी। खुटार रेंज का जंगल पीलीभीत टाइगर रिजर्व के बफर जोन में गिना जाता है। काम को भलीभांति पूरा कराने के लिए विभागीय अधिकारियों ने डबलयूडबलयूएफ (विश्व प्रकृति निधि) को कैमरे लगाने का जिम्मा दिया। इस पर अब डबलयूडबलयूएफ की ओर से काम शुरू कर दिया गया है। विभाग की टीम के साथ विश्व प्रकृति निधि के अफसर खुटार रेंज के जंगल का स्थलीय मुआयना करने में जुट गए है। जंगल के अंदर कैमरा लगाने के लिए जगह का चिन्हितीकरण कार्य किया जा रहा है। इसमें कितने कैमरों का प्रयोग होया, इसकी संख्या चिन्हितीकरण के बाद तय की जाएगी। डबलयूडबलयूएफ के परियोजना निदेशक ने बताया कि इसका काम कमलेश कुमार देख रहे है। टीम जगह की तलाश करने के बाद बाघ गणना के लिए जल्द कैमरे लगाएगी।

 

मुख्य संवाददाता वैभव शुक्ला की रिपोर्ट

 

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *