Roar for Tigers

अंतर्राष्ट्रीय माफिया ने कराया बाघ का शिकार!

अंतर्राष्ट्रीय माफिया ने कराया बाघ का शिकार!

Apr 18, 2014

बाघों की प्रमुख सैरगाह विश्व प्रसिद्ध कार्बेट नेशनल पार्क से लगे तराई पश्चिमी वन प्रभाग के बैलपड़ाव में बाघ का शिकार अंतर्राष्ट्रीय माफिया के इशारे पर हुआ और इसके लिए विदेश से बाकायदा पैसा भी भेजा गया। यही नहीं, कार्बेट पार्क समेत आसपास के इलाकों में अन्य बाघ भी शिकारियों के निशाने पर थे। जांच-पड़ताल में सामने आए इन तथ्यों से वन्यजीव महकमे के होश फाख्ता हो गए हैं। इसे देखते हुए अब वाइल्डलाइफ क्राइम कंट्रोल ब्यूरो से भी मदद मांगी गई है।

Tiger

तराई पश्चिमी वन प्रभाग के बैलपड़ाव में बाघ के शिकार की घटना से पूरे कार्बेट लैंडस्केप में बाघों की सुरक्षा पर फिर सवाल खड़ा हो गया है। सोमवार को मृत मिले इस बाघ का जिस बेरहमी से कत्ल किया गया, उससे क्षेत्र में किसी गिरोह के सक्रिय होने की आशंका से भी इनकार नहीं किया जा सकता। हालांकि, वन्यजीव महकमा जांच-पड़ताल में जुटा है, लेकिन इसमें जो तथ्य सामने आ रहे वे चौंकाने वाले हैं।

सूत्रों के मुताबिक यह बात भी सामने आ रही कि बाघ का शिकार अंतर्राष्ट्रीय माफिया के इशारे पर हुआ। शिकार के लिए कुछ मजदूरों के माध्यम से तिब्बत के रास्ते पैसा भी भेजा गया। शिकारियों की नजर न सिर्फ बैलपड़ाव बल्कि आसपास के क्षेत्रों के साथ ही कार्बेट पार्क के दूसरे बाघों पर भी थी। बाघ के शिकार में कौन सा गैंग शामिल था, यह अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है। इसे देखते हुए जांच-पड़ताल में वाइल्डलाइफ क्राइम कंट्रोल ब्यूरो की मदद ली जा रही है। इस सिलसिले में ब्यूरो से संपर्क साधा गया है। साथ ही पूरे कार्बेट लैंडस्केप में चौकसी कड़ी कर दी गई है।

उत्तराखंड में बाघों की मौत

2010-2011-2012-2013-2014

खाल-0-1-0-0-0

हडिडयां-0-0-9 किग्रा-1.4 किग्रा-0

शिकार-1-1-3-8-1

मृत मिले-4-7-7-1-1

वन विभाग/पुलिस की गोली का निशाना-0-1-0-0-0

सड़क दुर्घटना-0-1-0-0-0

आपसी संघर्ष-1-5-0-1-0-1

दूसरे जनवरों से संघर्ष-1-1-0-0-0

उपचार के दौरान-0-1-2-0-0

(स्रोत: वाइल्डलाइफ प्रोटेक्शन सोसायटी आफ इंडिया)

एसके दत्ता, अपर प्रमुख वन संरक्षक वन्यजीव, उत्तराखंड के मुताबिक ‘बैलपड़ाव में बाघ के शिकार मामले की गहन जांच पड़ताल चल रही है। कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। वाइल्डलाइफ क्राइम कंट्रोल ब्यूरो की मदद ली जा रही है। साथ ही कार्बेट लैंडस्केप में कड़ी चौकसी बरती जा रही है।’

 

As posted in Jagran.com

 

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *