Roar for Tigers

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व में प्रवासी पक्षियों पर शिकारियों की नजर

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व में प्रवासी पक्षियों पर शिकारियों की नजर

Nov 25, 2014

माधोटांडा। शारदा सागर डैम में प्रवासी पक्षियों के आने के साथ ही उन पर शिकारियों की बुरी नजर पड़ गई हैं। मछलियों के शिकार के बहाने शिकारी शारदा सागर डैम में अपनी छोटी-छोटी नावों से पक्षियों का शिकार कर रहे हैं। शिकारी चारे में कीटनाशक भरकर प्रवासी पक्षियों का शिकार कर रहे हैं।
बता दें कि प्रदेश बंटवारे के दौरान 22 किलोमीटर शारदा सागर डैम के जीरो किलोमीटर से 17 किलोमीटर तक का क्षेत्र यूपी के पास, जबकि 17 से 22 किलोमीटर का क्षेत्र उत्तराखंड में चला गया था। डैम के देखरेख की जिम्मेदारी सिंचाई विभाग की है लेकिन शारदा डैम में जल का बंटवारा न होने के कारण प्रवासी पक्षियों की देखरेख की जिम्मेदारी यूपी और उत्तराखंड दोनों की है। दूसरी तरफ दोनों प्रांतों के पास पानी में रहने वाले प्रवासी पक्षियों की सुरक्षा का कोई इंतजाम नहीं हैं। शिकारी इसका फायदा उठा रहे हैं। शारदा डैम के मछली ठेकेदार के प्रतिनिधि गुड्डू बताते हैं कि पक्षियों का शिकार तेजी से हो रहा है।

अब तक पकड़े गए दो शिकारी
बराही रेंज के वन क्षेत्राधिकारी मोहम्मद शहनियाज़ के मुताबिक विभाग के पास पानी में पेट्रोलिंग करने के लिए कोई संसाधन नहीं हैं। सूचनातंत्र की कमजोरी भी शिकार होने की मुख्य वजह है। हालांकि डैम के ठेकेदार ने दो शिकारियों को पकड़ कर प्रवासी पक्षियों सहित उत्तराखंड के वन विभाग को सौंपा था। रमनगरा और नौजल्हा वन चौकी के कर्मियों को प्रवासी पक्षियों का शिकार न होने देने और पेट्रोलिंग के निर्देश दिए हैं।

As posted in Amarujala.com
468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *