Roar for Tigers

पीलीभीत के जंगल में 19 पेड़ कटने पर फॉरेस्ट गार्ड निलंबित

पीलीभीत के जंगल में 19 पेड़ कटने पर फॉरेस्ट गार्ड निलंबित

Jul 1, 2014

पीलीभीत : नेपाल सीमा पर शीशम के जंगल में हुए अवैध कटान के मामले में कार्रवाई न करने और सूचना न देने पर प्रभागीय वनाधिकारी ने फारेस्ट गार्ड को निलंबित कर दिया है। इसके साथ ही रेंजर सहित समस्त स्टाफ को नोटिस जारी किया है। डीएफओ ने जंगल से बरामद लकड़ी को दर्ज कर रेंज में जमा कराया है। हजारा क्षेत्र के ग्राम टाटरगंज जोकि नेपाल सीमा पर स्थित है। जंगल में शीशम के काफी पेड़ हैं। चोरी छिपे मिलीभगत के चलते जंगल का सफाया किया जा रहा है। लकड़ी ठेकेदार रात के अंधेरे में भारी संख्या में शीशम के पेड़ काटकर बोटे नेपाल तक पहुंचाते हैं। अवैध कटान की सूचना मिलने पर उत्तर खीरी प्रभाग के प्रभागीय वनाधिकारी कमलेश कुमार पांडेय ने मौके पर जाकर इसकी पड़ताल की। जंगल में 19 पेड़ ताजे कटे पाए गए। कुछ लकड़ी भी मौके पर पड़ी थी। जांच में फॉरेस्ट गार्ड की लापरवाही उजागर हुई थी। फॉरेस्ट गार्ड ने अवैध कटान की सूचना भी किसी को नहीं दी थी। कार्रवाई न करने और सूचना न देने के आरोप के चलते डीएफओ ने फॉरेस्ट गार्ड महावीर प्रसाद को निलंबित कर दिया। डीएफओ ने जंगल से बरामद लकड़ी की गिनती कराकर उसे रेंज कार्यालय में दाखिल कराया है। डीएफओ केके पांडेय ने बताया कि फॉरेस्ट गार्ड पर कार्रवाई करने के साथ ही सम्पूर्णानगर रेंजर मुकेश भटनागर सहित स्टाफ को नोटिस जारी किया गया है। चेतावनी दी गई है यदि कटान पर प्रतिबंध न लगा तो कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया नेपाल सीमा पर कटान रोकने के लिए उन्होंने एक टीम बनाई है, जो इस पर कार्य कर रही है।

पांच दिन पूर्व भी हुई थी कार्रवाई

हजारा: लगातार कार्रवाई होने के बाद भी स्टाफ खुद को सुधार नहीं पा रहा है। धनाराघाट के जंगल में अवैध कटान मिलने पर पांच दिन पूर्व वनरक्षक प्रहलाद सिंह को डीएफओ खीरी ने निलंबित किया था। रेंजर और फॉरेस्ट गार्ड को चेतावनी दी थी लेकिन इसके बाद भी अवैध कटान नहीं रुका।

ग्रामीणों से मांगा सहयोग

हजारा: उत्तर खीरी वन प्रभाग के प्रभागीय वनाधिकारी केके पांडेय ने टाटरगंज गांव में ग्रामीणों के साथ वार्ता की और कटान न करने एवं तस्करी की सूचना देने की अपील की। उन्होंने ग्रामीणों से वन कर्मियों की लापरवाही के बारे में भी बताने को कहा।

 

As posted in Jagran.com

468 ad

2 comments

  1. Sean /

    A lot more will have to be done to stop the people from cutting wood in the forest and selling it in town. I have been here almost a year and have not seen any change. they work hand in hand with the people concerned.

  2. The person in authority if he is concerned should do some night time patrols on the Puranpur To Dhanaraghat road . I have regularly come across a tractor trolley making a run with fully loaded trolleys of wood between 11 pm and 4 am.

Trackbacks/Pingbacks

  1. Frederick - . thanks for information!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *