Roar for Tigers

पीलीभीत मेें जंगल की जमीन पर हैं कब्जे !

पीलीभीत  मेें जंगल की जमीन पर हैं कब्जे !

Jun 16, 2014

पीलीभीत : पीलीभीत के वन क्षेत्र को प्रदेश सरकार द्वारा टाइगर रिजर्व का दर्जा दे दिया है लेकिन वन विभाग की भूमि पर चला आ रहा अतिक्रमण नासूर साबित होगा। इन्हें बेदखल करने में अधिकारियों की दिलचस्पी तक नहीं है। पीलीभीत वन प्रभाग अंतर्गत सभी वनरेंजों के जंगल का भाग पूरनपुर तहसील क्षेत्र से जुड़ा हुआ है। वनविभाग की हरीपुर एवं बराही रेंज की हजारों एकड़ वनभूमि पर अवैध अतिक्रमण हटाए नहीं जा सके हैं।

अदालतों में चल रहे मुकदमों के निर्णय वनविभाग के पक्ष में होने के बाद भी आला अफसर चुप्पी साधे हैं। केवल वर्ष 1997 में पूर्व प्रभागीय वनाधिकारी सुनील दुबे के प्रयासों से एकमात्र लग्गाभग्गा की हजारों एकड़ वनभूमि को ही अतिक्रमण से मुक्त कराया गया था। बराही रेंज अंतर्गत शारदा पार क्षेत्र में भूड़ा गोरख डिब्बी में 1181.87 एकड़, रमनगरा की 182.09 एकड़ के अलावा सुनगढ़ी 258.90 एकड़, चन्दपुरा 0.25 एकड़, वीरखेड़ा ता.महाराजपुर 1274.77 एकड़, बैल्हा 1711.86 एकड़, बूंदीभूड़ 357.71 एकड़, गुनहान 184.87 एकड़, पुरैना ता.महाराजपुर 0.50, महाराजपुर 147.85 एकड़, नौजलिया 210.44 एकड़, बिजौरी खुर्द 65.04 एकड़, बरुआ कुठरा 60 एकड़ वनभूमि पर बड़ी संख्या में अवैध कब्जे हैं। पूर्व डीएफओ आरपी भारती, उमेन्द्र, सुनील दुबे आदि ने तो अतिक्रमण हटाने के प्रयास किए थे। इसके बाद किसी भी प्रभागीय वनाधिकारी ने अतिक्रमण को हटाने का प्रयास नहीं किया। आला अफसरों की उदासीनता के कारण वन भूमि पर लगातार अतिक्रमण बढ़ते जा रहे हैं। लग्गाभग्गा से सटी थारू बस्ती पर बाहरी लोगों ने झोपड़ियां डालकर जमीनों पर कब्जा कर लिया है। भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश उपाध्यक्ष कुंवर योगेन्द्र सिंह ने प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को शिकायती पत्र भेजा है जिसमें उन्होंने कहा कि डीएफओ राजीव मिश्रा, एसडीओ पूरनपुर व रेंजर वेदराम अवैध कब्जेदारों से लाखों की धन उगाही करते हैं।

फसलों की बुवाई से पूर्व हर वर्ष जमीनों की गुपचुप नीलामी की जाती है। उन्होंने सीएम से उच्च स्तरीय जांच कराने तथा उक्त अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई कराने की मांग की है। बराही रेंजर वेदराम ने बताया कि उगाही के आरोप गलत हैं। शीघ्र ही कब्जेदारों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई की जाएगी।

 

As posted in Jagran.com

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *