Roar for Tigers

नए साल में नहीं ले सकेंगे चूका का आनंद

नए साल में नहीं ले सकेंगे चूका का आनंद

Dec 30, 2014

पीलीभीत : मुख्य सचिव के तीन दिवसीय प्रवास के बाद पीलीभीत का टाइगर रिजर्व यूपी में एक बार फिर चर्चा में आ चुका है। अगर आप नए साल को पीलीभीत टाइगर रिजर्व में रुककर आनंद लेने का मन बना रहे हैं तो आप निराश ही होंगे। प्रदेश के केवल दूसरे टाइगर रिजर्व के बीच चूकाबीच स्पॉट पर 30 दिसंबर से एक जनवरी तक गेस्ट हाउस और हट्स की बुकिंग बंद कर दी गई है। अब यहां पहुंचने वाले सैलानियों को केवल चूकाबीच पर घूमकर आनंद उठाने का ही मौका मिल पाएगा। बुकिंग के लिहाज से इतनी तादात हो चुकी है कि यहां रूम देना बंद कर दिया गया है। हालांकि घूमने के लिए सुविधा रहेगी पर पर्यटकों को इसके लिए निर्धारित शुल्क भी अदा करना होगा। गत नौ जून को पीलीभीत टाइगर रिजर्व बनने के बाद जनपद विश्व पटल पर छा गया। टाइगर रिजर्व में प्रवेश करने के नियम कानूनों में काफी हद तक बदलाव हो गया। कोई भी व्यक्ति बगैर अनुमति जंगल के अंदर नहीं घूम सकता है। पकड़े जाने पर वन्यजीव संरक्षण एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी।

Rest house in Pilibhit Tiger Reserve

 

वर्ष 2014 अलविदा कहने को तैयार है और वर्ष 2015 स्वागत करने के लिए उत्सुक है। नए वर्ष में टाइगर रिजर्व में हर कोई का घूमने का मन होता है। टाइगर रिजर्व की महोफ रेंज के चूकाबीच ईको टूरिज्म स्पाट पर बने गेस्ट हाउस और हट्स की बुकिंग 30, 31 दिसंबर और एक जनवरी के लिए बंद कर दी गई है। इस संबंध में क्षेत्रीय वनाधिकारी को आदेश भेज दिए गए हैं। गेस्ट हाउस बुक कराने के लिए हर दिन काफी लोग लौट रहे हैं, लेकिन उन्हें निराशा ही हाथ लग रही है। जंगल की अन्य रेंजों में बने गेस्ट हाउस की बुकिंग के लिए मारामारी है। पीलीभीत टाइगर रिज़र्व के डीएफओ कैलाश प्रकाश के मुताबिक  ‘नए वर्ष पर गेस्टहाउस और हट्स की बुकिंग बंद कर दी गई है। प्रतिबंध तीन दिनों तक जारी रहेगा। अगर कोई टूरिस्ट चूकाबीच घूमने आना चाहता है तो निर्धारित शुल्क की पर्ची कटवाकर जा सकता है। चूकाबीच पर नेचर इंटरप्रटेशन सेंटर, ट्री हट, वाटर हट, बीच पर घूमकर आनंद उठाया जा सकता है। सूक्ष्म जलपान के लिए कैंटीन की सुविधा वहां दी गई है।

 

 

 

As posted in Jagran.com

 

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *