Roar for Tigers

12 बोर की बंदूक से बाघिन का सामना

12 बोर की बंदूक से बाघिन का सामना

Feb 11, 2014

मुरादाबाद मंडल और उत्तराखंड के सीमावर्ती क्षेत्र में दस लोगों को निवाला बना चुकी आदमखोर बाघिन को मारने के लिए वन विभाग के पास पर्याप्त हथियार नहीं हैं। वनकर्मियों के पास 315 बोर की रायफल और 12 बोर की बंदूक हैं, जबकि बाघिन को मारने के लिए कम से कम 375 बोर की मैग्नम रायफल होनी चाहिए। आदमखोर बाघिन मुरादाबाद मंडल व उत्तराखंड के सीमावर्ती क्षेत्र में 10 लोगों को निवाला बना चुकी है। इतनी मौत के बावजूद वन विभाग बाघिन को मारने या उसे काबू करने की कोई ठोस रणनीति नहीं बना पाया। हथिनियों पर बैठकर बाघिन की तलाश कर रहे शूटरों और वनकर्मियों को शाहनगर कुराली क्षेत्र में गुलदार के पदचिह्न तो मिले हैं, लेकिन बाघिन का पता नहीं लगा। आलम यह है कि वन विभाग के कर्मचारियों के पास मात्र 315 बोर की रायफल और 12 बोर की बंदूक हैं, जबकि बाघिन को मारने के लिए कम से कम 375 मैग्नम बोर रायफल की जरूरत होती है। केवल दो शूटरों के पास ही यह रायफल है।

– शूटर और वनकर्मियों में नहीं समन्वय

बाघिन को मारने के लिए नियुक्त किए गए दोनों शूटरों और वनकर्मियों में समन्वय नहीं है। हर कोई अपनी तरह से बाघिन की तलाश में जुटा है। वनकर्मी किसी क्षेत्र में चलने के लिए कहते हैं तो शूटर किसी और दिशा में चलने को तत्पर रहते हैं।

– खेतों में पसरा सन्नाटा, फसलें हुई बर्बाद

बाघिन के खौफ से वन क्षेत्र में पड़ने वाले खेतों में सन्नाटा पसरा हुआ है। किसान खेतों पर नहीं जा रहे हैं। ग्राम शाहनगर कुराली के प्रधान फरहतुल्ला खां ने बताया कि किसानों की फसलें बर्बाद हो रही हैं। लक्कड़ पीर क्षेत्र में पहले अच्छी खासी रौनक रहती थी, लेकिन अब यहां सन्नाटा पसरा हुआ है।

-चौकी छोड़ भागे रेंजर

आदमखोर बाघिन को लेकर वनकर्मी कुछ भी कहने से बच रहे हैं। मंगलवार को साहूवाला चौकी पर तैनात रेंजर ब्रजबिहारी शर्मा को जब क्षेत्र में पत्रकारों के पहुंचने की सूचना मिली तो वह चौकी छोड़कर निकल लिए। बाद में उनसे फोन पर संपर्क किया, तो उन्होंने बताया कि वह कालागढ़ क्षेत्र में हैं। बाघिन के संबंध में कोई भी जवाब देने से वह बचते रहे।

-बाघिन के शिकार लोगों की सूची

– 26 दिसंबर 2013 : संभल जिले के बहजोई हसन खुर्द में युवक को मार डाला।

– 29 दिसंबर : संभल जिले के मिठनपुर मौजा गांव में विजय सिंह को शिकार बनाया।

– 5 जनवरी : मुरादाबाद के चंगेरी गांव में राजीव विश्नोई को मारा।

– 7 जनवरी : मुरादाबाद के ही मल्लीवाला में किशोर को मारा।

– 8 जनवरी : दरियापुर रफायतपुर में एक महिला पर हमला कर मार डाला था।

– 10 जनवरी : बिजनौर जिले के ग्राम मनियावाला में शिव कुमार को मारा।

– 14 जनवरी : कालागढ़ जंगल में हेड़िया बस्ती की आनंदी को खाया।

– 26 जनवरी को बढ़ापुर क्षेत्र में देवेंद्र को मार डाला।

– 6 फरवरी : बढ़ापुर की साहूवाला वन रेंज में लाल सिंह को निवाला बनाया।

– 9 फरवरी : उत्तराखंड के कालागढ़ निवासी रामचरण को शिकार बनाया।

As posted in Jagran.com

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *