Roar for Tigers

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व में बाघ संरक्षण की दिशा में होंगे कई काम

पीलीभीत टाइगर रिज़र्व में बाघ संरक्षण की दिशा में होंगे कई काम

Sep 23, 2015

पीलीभीत : टाइगर रिजर्व में बाघों के संरक्षण की दिशा में कवायद चल रही है। रेंज कार्यालयों में जल्द ही निर्माण कार्य शुरू किए जाएंगे। वायरलेस सेट रूम व सौर ऊर्जा पैनल सिस्टम लगवाए जाएंगे, जिससे रेंज परिसर में प्रकाश की दिक्कत समाप्त हो जाएगी।

उत्तर प्रदेश का पीलीभीत टाइगर रिजर्व दूसरा है, जहां पर लुप्तप्राय टाइगर, बंगाल फ्लोरिकन, हिस्पिडहियर, गैंडा, हिरन, मोर, अजगर सांप, जंगली भालू आदि विभिन्न प्रकार के वन्यजीव पाए जाते हैं। ये वन्यजीव स्वच्छंद रूप से विचरण करते रहते हैं। टाइगर रिजर्व बनने के बाद जंगल क्षेत्र में संसाधन उपलब्ध नहीं कराए गए। अब जंगल क्षेत्र में बाघ संरक्षण की दिशा में काम किया जा रहा है।

Indian_Tiger_at_Bhadra_wildlife_sanctuary

टाइगर प्रोजेक्ट परियोजना के तहत जंगल क्षेत्र में कई कार्यों का टेंडर किया जा चुका है। इन कार्यों की धनराशि जल्द ही टाइगर रिजर्व को रिलीज की जाएगी। हरीपुर रेंज में छह लाख की लागत से वनरक्षक चौकी बनाई जाएगी। इसी रेंज में 1.75 लाख रुपए से वायरलेस रूम बनवाया जाएगा। वहीं दियोरिया कलां रेंज में घुंघचाई चौकी में वायरलेस रूम बनवाया जाएगा, जिस पर 1.75 लाख रुपए खर्च किए जाएंगे। टाइगर रिजर्व कार्यालय में तीन लाख रुपए की लागत से बंदीगृह बनवाया जाएगा। हरीपुर रेंज की ढक्काचाट तीन में एंटी पो¨चग चौकी कम वॉचर टॉवर का निर्माण कराया जाएगा, जिस पर पांच लाख रुपए खर्च होंगे। इसी तरह हरीपुर, बराही व दियोरिया कलां रेंज में प्रत्येक में सोलर पॉवर यूनिट की स्थापना की जाएगी। इन कार्यों के टेंडर किए जा चुके हैं। वन अफसरों के मुताबिक टाइगर प्रोजेक्ट परियोजना में कार्यों के टेंडर किए जा चुके हैं। नेशनल टाइगर कंजरवेशन अथारिटी से यूपी सरकार को धनराशि रिलीज हो गई है, जो जल्द ही टाइगर रिजर्व को प्राप्त हो जाएगी।

 

 

 

As posted in Jagran.com

468 ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *